|

Article 105 In Hindi | Article 105 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 105 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Article 105 Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 105 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 105 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 105 भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 105 In Hindi

Anuched 105 – संसद के सदनों और उसके सदस्यों और समितियों की शक्तियाँ, विशेषाधिकार आदि
Anuched 105(1)
इस संविधान के प्रावधानों और संसद की प्रक्रिया को विनियमित करने वाले नियमों और स्थायी आदेशों के अधीन, संसद में भाषण की स्वतंत्रता होगी।
Anuched 105(2) संसद या उसकी किसी समिति में उसके द्वारा कही गई किसी बात या उसके द्वारा दिए गए वोट के संबंध में संसद का कोई भी सदस्य किसी भी अदालत में किसी भी कार्यवाही के लिए उत्तरदायी नहीं होगा, और कोई भी व्यक्ति इसके द्वारा या उसके तहत प्रकाशन के संबंध में इतना उत्तरदायी नहीं होगा किसी रिपोर्ट, कागज, वोट या कार्यवाही के संसद के किसी भी सदन का अधिकार।

Anuched 105(3) अन्य मामलों में, संसद के प्रत्येक सदन और प्रत्येक सदन के सदस्यों और समितियों की शक्तियाँ, विशेषाधिकार और उन्मुक्तियाँ ऐसी होंगी जो समय-समय पर संसद द्वारा कानून द्वारा परिभाषित की जा सकती हैं, और जब तक ऐसा नहीं होता है। संविधान (चवालीसवां संशोधन) अधिनियम, 1978 की धारा 15 के लागू होने से ठीक पहले उस सदन और उसके सदस्यों और समितियों की परिभाषाएँ परिभाषित की जाएंगी।
Anuched 105(4) खंड (1), (2) और (3) के प्रावधान उन व्यक्तियों के संबंध में लागू होंगे, जिन्हें इस संविधान के आधार पर सदन में बोलने और अन्यथा कार्यवाही में भाग लेने का अधिकार है। संसद या उसकी कोई समिति जैसा कि वे संसद सदस्यों के संबंध में लागू होते हैं।

INDIAN  CONSTITUTION PART 5 ARTICLE

Article 105 Of Indian Constitution In Hindi & English

Article 105 – Powers, privileges, etc of the Houses of Parliament and of the members and committees thereof
Article 105(1)
Subject to the provisions of this constitution and the rules and standing orders regulating the procedure of Parliament, there shall be freedom of speech in Parliament.
Article 105(2) No member of Parliament shall be liable to any proceedings in any court in respect of anything said or any vote given by him in Parliament or any committee thereof, and no person shall be so liable in respect of the publication by or under the authority of either House of Parliament of any report, paper, votes or proceedings.

Article 105(3) In other respects, the powers, privileges and immunities of each House of Parliament, and of the members and the committees of each House, shall be such as may from time to time be defined by Parliament by law, and, until so defined shall be those of that House and of its members and committees immediately before the coming into force of Section 15 of the Constitution (Forty fourth Amendment) Act 1978.
Article 105(4) The provisions of clauses ( 1 ), ( 2 ) and ( 3 ) shall apply in relation to persons who by virtue of this constitution have the right to speak in, and otherwise to take part in the proceedings of, a House of Parliament or any committee thereof as they apply in relation to members of Parliament.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Anuched 105 Kya Hai

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने खंड 4 में ‘या उसकी कोई समिति’ सम्मिलित करने के लिए एक संशोधन पेश किया। उन्होंने तर्क दिया कि इस मसौदा अनुच्छेद के तहत उन्मुक्ति न केवल संसद के सदस्यों को प्रदान की जानी चाहिए, बल्कि गैर-सदस्यों को भी दी जानी चाहिए, जो किसी भी सदस्य का हिस्सा हो सकते हैं।

संसद द्वारा गठित समिति। उन्होंने अनुमान लगाया कि समितियां अपनी गवाही के लिए विशेषज्ञों और अन्य पेशों को बुलाएंगी और ऐसे व्यक्तियों को समान संसदीय विशेषाधिकार प्राप्त होने चाहिए। यह संशोधन अपनाया गया था। एक अन्य सदस्य ने एक नया खंड जोड़ने का प्रस्ताव रखा जो विशेषाधिकार से संबंधित किसी भी मुद्दे पर संसद को अंतिम न्यायाधीश बना देगा और पारित किए गए ऐसे आदेश संसद के अधिकारियों द्वारा लागू किए जा सकते हैं।

इस प्रस्ताव को विधानसभा ने खारिज कर दिया। एक सदस्य इस मसौदा अनुच्छेद के प्रेस की स्वतंत्रता पर प्रभाव से चिंतित था। उन्होंने कहा कि ऐसा कोई भी भाषण या कार्यवाही जिसे संसद प्रकाशित कर सकती है, प्रेस को एक समान अधिकार होना चाहिए। प्रेस की स्वतंत्रता के लिए मसौदा लेख की अवहेलना एक खामी थी जिसे दूर करने की आवश्यकता थी। उन्होंने आगे खंड (3) पर आपत्ति जताई, जिसमें कहा गया था कि संसद के सदस्यों को यूनाइटेड किंगडम की संसद के हाउस ऑफ कॉमन्स के सदस्यों के विशेषाधिकार प्राप्त हैं।

उन्होंने कहा कि हाउस ऑफ कॉमन्स के सदस्यों के विशेषाधिकार एक क़ानून में संहिताबद्ध नहीं थे। इसके बजाय उदाहरणों की बात थी जिसे सामान्य कानून की पाठ्यपुस्तकों के माध्यम से समझा जा सकता था। यह भारतीय सांसदों पर भारी बोझ डालेगा, क्योंकि उन्हें अपने विशेषाधिकारों को बेहतर ढंग से समझने के लिए अंग्रेजी वकीलों को किराए पर लेना होगा या मदद लेनी होगी।

मसौदा समिति के एक सदस्य ने कहा कि हाउस ऑफ कॉमन्स के सदस्यों को ‘सबसे व्यापक विशेषाधिकार’ प्राप्त हैं। यदि संविधान को प्रांतीय विधानमंडलों के मौजूदा विशेषाधिकारों को केवल सांकेतिक शब्दों में बदलना होता, तो यह प्रतिबंधात्मक होगा: संसद की अवमानना ​​के लिए किसी व्यक्ति को दंडित करने का अधिकार अनुपस्थित होगा। उन्होंने आगे स्पष्ट किया कि ऑस्ट्रेलियाई और कनाडा के संविधानों में हाउस ऑफ कॉमन्स के समान प्रत्यक्ष संदर्भ थे।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 96 In Hindi
Article 97 In Hindi
Article 98 In Hindi
Anuched 99 Hindi Me
Article 100 In Hindi
Article 101 In Hindi
Anuched 102 Hindi Me
Article 103 In Hindi
Article 104 In Hindi
Article 95 In Hindi

Final Words

तो आपको Article 105 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 105 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 105 Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *