|

Article 107 In Hindi | Article 107 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 107 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Article 107 Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 107 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 107 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 107 भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 107 In Hindi

Anuched 107 – विधेयकों को पुर:स्थापित करने और पारित करने के संबंध में उपबंध
(1) धन विधेयकों और अन्य वित्तीय विधेयकों के संबंध में अनुच्छेद 109 और 117 के प्रावधानों के अधीन, कोई विधेयक संसद के किसी भी सदन में उत्पन्न हो सकता है।
(2) अनुच्छेद 108 और 109 के प्रावधानों के अधीन, एक विधेयक को संसद के सदनों द्वारा पारित नहीं माना जाएगा, जब तक कि दोनों सदनों द्वारा या तो संशोधन के बिना या केवल ऐसे संशोधनों के साथ सहमति नहीं दी जाती है, जो सहमत हैं दोनों सदनों।

(3) संसद में लंबित विधेयक सदनों के सत्रावसान के कारण व्यपगत नहीं होगा।
(4) राज्य सभा में लंबित कोई विधेयक, जिसे लोक सभा द्वारा पारित नहीं किया गया है, लोक सभा के भंग होने पर व्यपगत नहीं होगा।
(5) एक विधेयक जो लोक सभा में लंबित है, या जो लोक सभा द्वारा पारित किया गया है, राज्यों की परिषद में लंबित है, अनुच्छेद 108 के प्रावधानों के अधीन होगा, सदन के विघटन पर व्यपगत लोगों का।

INDIAN  CONSTITUTION PART 5 ARTICLE

Article 107 Of Indian Constitution In Hindi & English

Article 107 – Provisions as to introduction and passing of Bills
(1)
Subject to the provisions of Articles 109 and 117 with respect to Money Bills and other financial Bills, a Bill may originate in either House of Parliament.
(2) Subject to the provisions of Article 108 and 109, a Bill shall not be deemed to have been passed by the Houses of Parliament unless it has been agreed to by both Houses, either without amendment or with such amendments only as are agreed by both Houses.

(3) A Bill pending in Parliament shall not lapse by reason of the prorogation of the Houses.
(4) A Bill pending in the Council of States which has not been passed by the House of the People shall not lapse on a dissolution of the House of the People.
(5) A Bill which is pending in the House of the People, or which having been passed by the House of the People is pending in the council of States, shall subject to the provisions of Article 108, lapse on a dissolution of the House of the People.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Anuched 107 Kya Hai

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने लोगों से याचिकाएं और अभ्यावेदन प्राप्त करने के लिए संसद की व्यवस्था करने का प्रस्ताव रखा। लोगों को किसी भी वित्तीय या प्रशासनिक मामलों पर विधायिका में सीधे प्रतिनिधित्व करने का अधिकार होना चाहिए।

यह लोकप्रिय राय के परीक्षण में महत्वपूर्ण होगा। एक अन्य सदस्य हाउस ऑफ काउंसिल्स के साथ हाउस ऑफ पीपल के समान व्यवहार करने का विरोध कर रहा था। उन्होंने तर्क दिया कि लोगों की सभा लोकतांत्रिक इच्छा का प्रतिनिधित्व करती है और इसे परिषदों के सदन से बेहतर स्थान दिया जाना चाहिए, जो केवल एक सलाहकार निकाय है जो ‘जल्दबाजी में कानून’ की जांच करता है।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 106 In Hindi
Article 97 In Hindi
Article 98 In Hindi
Anuched 99 Hindi Me
Article 100 In Hindi
Article 101 In Hindi
Anuched 102 Hindi Me
Article 103 In Hindi
Article 104 In Hindi
Article 105 In Hindi

Final Words

तो आपको Article 107 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 107 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 107 Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *