Article 169 In Hindi | Article 169 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 169 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Article 169 Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 169 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 169 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 169 भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 169 In Hindi

Anuched 169 – राज्यों में विधान परिषदों का उन्मूलन या निर्माण
(1) अनुच्छेद 168 में किसी बात के होते हुए भी, संसद कानून द्वारा ऐसी परिषद वाले राज्य की विधान परिषद को समाप्त करने या ऐसी परिषद वाले राज्य में ऐसी परिषद के निर्माण के लिए उपबंध कर सकती है, यदि राज्य की विधान सभा राज्य विधानसभा की कुल सदस्यता के बहुमत से और विधानसभा में उपस्थित और मतदान करने वाले सदस्यों के कम से कम दो तिहाई बहुमत से इस आशय का एक प्रस्ताव पारित करता है।
(2) खंड (1) में निर्दिष्ट किसी भी कानून में इस संविधान के संशोधन के लिए ऐसे प्रावधान होंगे जो कानून के प्रावधानों को प्रभावी बनाने के लिए आवश्यक हो सकते हैं और इसमें ऐसे पूरक, प्रासंगिक और परिणामी प्रावधान भी शामिल हो सकते हैं जैसा कि संसद समझे। ज़रूरी।
(3) पूर्वोक्त ऐसा कोई कानून अनुच्छेद 368 के प्रयोजनों के लिए इस संविधान का संशोधन नहीं समझा जाएगा।

INDIAN CONSTITUTION PART 6 ARTICLE

Article 169 Of Indian Constitution In English

Article 169 – Abolition or creation of Legislative Councils in States
(1) Notwithstanding anything in Article 168, Parliament may by law provide for the abolition of the Legislative Council of a State having such a Council or for the creation of such a Council in a State having no such Council, if the Legislative Assembly of the State passes a resolution to that effect by a majority of the total membership of the Assembly and by a majority of not less than two thirds of the members of the Assembly present and voting.
(2) Any law referred to in clause ( 1 ) shall contain such provisions for the amendment of this Constitution as may be necessary to give effect to the provisions of the law and may also contain such supplemental, incidental and consequential provisions as Parliament may deem necessary.
(3) No such law as aforesaid shall be deemed to be an amendment of this Constitution for the purposes of Article 368.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Anuched 169 Kya Hai

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने एक संशोधन पेश किया जिसमें दूसरे सदन के निर्माण या समाप्ति से संबंधित विधेयक पर चर्चा के लिए 14 दिन की नोटिस अवधि की आवश्यकता होगी। इसका एक सदस्य ने समर्थन किया, जिसने यह तर्क दिया कि मसौदा अनुच्छेद (अनुच्छेद 61) का हवाला देते हुए इस तरह की आवश्यकता को बहुत महत्वपूर्ण मामलों की चर्चा से जोड़ा जा रहा था, जिसने राष्ट्रपति पर महाभियोग चलाने की प्रक्रिया निर्धारित की।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 156 In Hindi
Article 167 In Hindi
Article 168 In Hindi
Anuched 159 Hindi Me
Article 160 In Hindi
Article 161 In Hindi
Anuched 162 Hindi Me
Article 163 In Hindi
Article 164 In Hindi
Article 165 In Hindi

Final Words

तो आपको Article 169 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 169 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 169 Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.