Article 222 In Hindi – Article 222 Of Indian Constitution In Hindi – अनुच्छेद 222 क्या है

Article 222 Of Indian Constitution – Article 222 In Hindi – अनुच्छेद 222 किससे संबंधित है

 

आज के लेख में आपको Article 222 Of Indian Constitution In Hindi के बारे में जानकारी दी जाएगी. यदि आप Article 222 of Indian Constitution के बारे में Article 222 In Hindi मे जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगह पर आये है.

 

आपको हमारे ब्लॉग के इस लेख में अनुच्छेद 222 क्या है और अनुच्छेद 222 किससे संबंधित है इस बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त होगी. क्योकि हमारे देश के कुछ ऐसे भी नागरिक है, जिन्हें आर्टिकल 222 क्या कहता है या फिर Article 222 of Indian Constitution Is Related to इस बारे में बिलकुल भी जानकारी नहीं है.

 

article-222-of-indian-constitution-अनुच्छेद-222-क्या-है

Article 222 of Indian Constitution – अनुच्छेद 222 क्या है

 

हमारे देश के ऐसे ही लोगो के लिए इस ब्लॉग को बनाया गया है. जिसमे आर्टिकल २२२  ऑफ़ इंडियन कंस्टीटूशन अर्थात What Is Article 222 of Indian Constitution इस प्रकार से भारतीय संविधान के सभी अनुच्छेद के बारे में जानकारी आपको दी जाएगी.

 

आपको बता दे की, हमारे भारतीय संविधान मे हर एक बात अनुच्छेद के माध्यम से बतायी गयी है और उसके लिए प्रत्येक प्रावधान को एक नंबर दिया गया है. जैसे की जिसमे Article 222 (आर्टिकल 222) भी एक नंबर है.  

 

तो आइये What Is Article 222 in Hindi में जान लेते है….!

 

Article 222 of Indian Constitution in Hindi – आर्टिकल 222 क्या कहता है

 

इस लेख में आपको What Is Article 222 of Indian Constitution अर्थात आर्टिकल 222 क्या है संविधान में के बारे में जानकारी बतायी जा रही है. आर्टिकल २२२ में वर्णित शब्दश: जानकारी आप निचे देख पाएंगे.  

भारतीय संविधान का भाग- 6

 

अनुच्छेद- 222.किसी न्यायाधीश का एक उच्च न्यायालय से दूसरे उच्च न्यायालय को अंतरण-

 

(1) राष्ट्रपति, 1[अनुच्छेद 124क में निर्दिष्ट राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग की सिफारिश पर] 2*** किसी न्यायाधीश का एक उच्च न्यायालय से दूसरे उच्च न्यायालय  को अंतरण कर सकेगा।

 

3[(2) जब कोई न्यायाधीश इस प्रकार अंतरित किया गया है या किया जाता है।  तब वह उस अवधि के दौरान, जिसके दौरान वह संविधान (पंद्रहवां संशोधन) अधिनियम, 1963 के प्रारंभ के पश्चात् दूसरे उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में सेवा करता है,  अपने वेतन के अतिरिक्त ऐसा प्रतिकरात्मक भत्ता, जो संसद् विधि द्वारा अवधारित करे, और जब तक इस प्रकार अवधारित नहीं किया जाता है तब तक ऐसा प्रतिकरात्मक भत्ता, जो राष्ट्रपति आदेश द्वारा नियत करे, प्राप्त करने का हकदार होगा।]

 

  1. संविधान (निन्यानवेवां संशोधन) अधिनियम, 2014 की धारा 7 द्वारा (13-4-2015 से) “भारत के मुख्य न्यायमूर्ति से परामर्श करने के पश्चात्” के स्थान पर प्रतिस्थापित। यह संशोधन स्प्रीम कोर्ट एडवोकेट्स आन रिकार्ड एसोसिएशन बनाम भारत संघ ए.आई.आर 2016 एस.सी. 117 में उच्चतम न्यायालय के तारीख 16 अक्तूबर, 2015 के आदेश द्वारा अभिखंडित कर दिया गया है।

 

  1. संविधान (सातवां संशोधन) अधिनियम, 1956 की धारा 14 द्वारा “भारत के राज्यक्षेत्र में के” शब्दों का (1-11-1956 से) लोप किया गया।

 

  1. संविधान (पंद्रहवां संशोधन) अधिनियम, 1963 की धारा 5 द्वारा (5-10-1963 से) अंतःस्थापित। संविधान (सातवां संशोधन) अधिनियम, 1956 की धारा 14 द्वारा मूल खंड (2) का लोप (11-1956 से) किया गया।

 

Article 222 Of Indian Constitution In English – Article 222 of Indian Constitution Is Related to

 

इस लेख में आपको आर्टिकल 222 क्या है अर्थात आर्टिकल २२२ इन हिंदी के बारे में जानकारी बतायी जा रही है. आर्टिकल 222 में वर्णित शब्दश: जानकारी आप निचे देख पाएंगे.  

  

(In this article, you are being told information about Article 222 of Indian Constitution and what is Article 222 in the Indian Constitution. You will be able to see the verbatim information described in Article 222 in English below.)

 

PART- VI OF INDIAN CONSTITUTION

 

Article- 222.Transfer of a Judge from one High Court to another.-

 

(1) The President may, 1[on the recommendation of the National Judicial Appointments Commission referred to in article 124A], transfer a Judge from one High Court to any other High Court2***.

 

3[(2) When a Judge has been or is so transferred, he shall, during the period he serves, after the commencement of the Constitution (Fifteenth Amendment) Act, 1963, as a Judge of the other High Court, be entitled to receive in addition to his salary such compensatory allowance as may be determined by Parliament by law and, until so determined, such compensatory allowance as the President may by order fix.]

  

Subs. by the Constitution (Ninety-ninth Amendment) Act, 2014, s. 7, for “after consultation with the Chief Justice of India” (w.e.f. 13-4-2015). This amendment has been struck down by the Supreme Court vide its order dated the 16″ October, 2015 in the Supreme Court Advocates-on-Record Association and Another Vs. Union of India reported in AIR 2016 SC 117.

The words “within the territory of India” omitted by the Constitution (Seventh Amendment) Act, 1956, s.14 (w.e.f. 1-11-1956).

Ins. by the Constitution (Fifteenth Amendment) Act, 1963, s. 5 (w.e.f. 5-10-1963). Original cl. (2) was omitted by the Constitution (Seventh Amendment) Act, 1956, s. 14 (w.e.f. 1-11-1956).

 

नोट- आर्टिकल २२२ के बारे में दी गयी जानकारी भारतीय संविधान (Indian Constitution) से ही ली गई है अर्थात यह संविधान के शब्द है…..!

 

What Is Article 222 of Indian Constitution – आर्टिकल २२२  ऑफ़ इंडियन कंस्टीटूशन – विशेष जानकारी

 

आपको बता दे की, Article 222 of Indian Constitution (आर्टिकल २२२  ऑफ़ इंडियन कंस्टीटूशन) के बारे में कोई भी विशेष टिपण्णी नहीं की जा सकती है. अनुच्छेद 222 में न्यायाधीशों के वेतन के बारे में वर्णन किया गया है.

 

What Is Article 222 in Hindi  – आर्टिकल 222 क्या है – आर्टिकल २२२  इन हिंदी – संक्षेप में वाद-विवाद

 

भारतीय संविधान के आर्टिकल 222 में वर्णित न्यायाधीशों के वेतन को लेकर कोई भी वाद-विवाद नहीं है जिसकी जानकारी आपको दी जा सके. आपको यदि कोई अनुच्छेद 222 के बारे में कोई वाद-विवाद की खबर हो तो कमेंट में जरुर बताये.

 

आर्टिकल २२२  (आर्टिकल 222) की तरह ही अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद जानिए

 

जिस प्रकार से आपको आज के लेख में Article 222 in Hindi (अनुच्छेद 222 क्या है) के बारे में जानकारी बतायी गयी है. उसी प्रकार से Indian Constitution के अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद आप निचे देख सकते है.

 

Article 216 In Hindi
Article 217 In Hindi
Article 218 In Hindi
Anuched 219 Hindi Me
Article 220 In Hindi
Article 211 In Hindi
Anuched 212 Hindi Me
Article 213 In Hindi
Article 214 In Hindi
Article 215 In Hindi

 

Final Words About Article 222 – आर्टिकल 222 के बारे में अंतिम शब्द

 

आज के लेख में  Article 222 Of Indian Constitution In Hindi (आर्टिकल 356 क्या है) इस बारे में जानकारी दी गयी है. जिसमे Article 222 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है अर्थात आर्टिकल २२२  क्या है? को दोनों ही भाषाओ में वर्णित क्या गया है. यदि आपको अनुच्छेद 222 से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.