|

Article 31C In Hindi | Article 31C Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 31C हिंदी में

इस पोस्ट मे आपको Article 31C Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 31C In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 31C क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 31C भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 31C In Hindi

Anuched 31C – कुछ निदेशक सिद्धांतों को प्रभावी करने वाले कानूनों की बचत।
अनुच्छेद 13 में निहित किसी भी बात के होते हुए भी, भाग IV में निर्धारित सभी या किन्हीं सिद्धांतों को सुरक्षित करने के लिए राज्य की नीति को प्रभावी करने वाला कोई भी कानून इस आधार पर शून्य नहीं माना जाएगा कि यह असंगत है, या हटाता है या संक्षिप्त करता है अनुच्छेद 14 या अनुच्छेद 19 द्वारा प्रदत्त अधिकारों में से कोई भी अधिकार और कोई भी कानून जिसमें यह घोषणा नहीं है कि यह ऐसी नीति को प्रभावी करने के लिए है, को किसी भी अदालत में इस आधार पर प्रश्नगत नहीं किया जाएगा कि यह ऐसी नीति को प्रभावी नहीं करता है: बशर्ते कि जहां ऐसा कानून किसी राज्य के विधानमंडल द्वारा बनाया गया है, इस अनुच्छेद के प्रावधान उस पर तब तक लागू नहीं होंगे जब तक कि ऐसा कानून, राष्ट्रपति के विचार के लिए आरक्षित होने के कारण, संवैधानिक उपचार का अधिकार प्राप्त नहीं कर लेता है।

INDIAN CONSTITUTION PART 3 ARTICLE

Article 31C Of Indian Constitution In Hindi & English

Article 31C – Saving of laws giving effect to certain directive principles.
Notwithstanding anything contained in Article 13, no law giving effect to the policy of the State towards securing all or any of the principles laid down in Part IV shall be deemed to be void on the ground that it is inconsistent with, or takes away or abridges any of the rights conferred by Article 14 or Article 19 and no law containing a declaration that it is for giving effect to such policy shall be called in question in any court on the ground that it does not give effect to such policy: Provided that where such law is made by the Legislature of a State, the provisions of this Article shall not apply thereto unless such law, having been reserved for the consideration of the President, has received his assent Right to Constitutional Remedies.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Also See

Final Words

तो आपको Article 31C Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 31C In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 31C Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *