|

Article 87 In Hindi | Article 87 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 87 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Article 87 Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 87 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 87 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 87 भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 87 In Hindi

Anuched 87 – राष्ट्रपति का विशेष अभिभाषण
Anuched 87(१)
लोक सभा के लिए प्रत्येक आम चुनाव के बाद पहले सत्र के प्रारंभ में और प्रत्येक वर्ष के पहले सत्र के प्रारंभ में राष्ट्रपति एक साथ समवेत संसद के दोनों सदनों को संबोधित करेंगे और संसद को उसके बुलावे के कारणों से अवगत कराएंगे।
Anuched 87(२) ऐसे अभिभाषण में निर्दिष्ट मामलों की चर्चा के लिए समय के आवंटन के लिए किसी भी सदन की प्रक्रिया को विनियमित करने वाले नियमों द्वारा प्रावधान किया जाएगा।

INDIAN  CONSTITUTION PART 5 ARTICLE

Article 87 Of Indian Constitution In Hindi & English

Article 87 – Special address by the President
Article 87(1)
At the commencement of the first session after each general election to the House of the People and at the commencement of the first session of each year the President shall address both Houses of Parliament assembled together and inform Parliament of the causes of its summons.
Article 87(2) Provision shall be made by rules regulating the procedure of either House for the allotment of time for discussion of the matters referred to in such address.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Anuched 87 Kya Hai

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने एक संशोधन प्रस्तावित किया जो राष्ट्रपति के अभिभाषण के विषय को व्यापक बना देगा। उन्होंने तर्क दिया कि राष्ट्रपति, राज्य के एक गैर-पार्टी प्रमुख होने के नाते, ‘नीति का सामान्य अवलोकन, या देश के सामने संभावनाओं को प्रदान करना चाहिए। बजाय सम्मन के विशिष्ट कारणों के साथ’।

मसौदा समिति के अध्यक्ष ने बताया कि ‘इसके सम्मन के कारण’ वाक्यांश किसी भी विषय वस्तु को शामिल करने के लिए पर्याप्त व्यापक था। अतः इस संशोधन को स्वीकार करना अनावश्यक था। एक अन्य सदस्य इस मसौदा अनुच्छेद की आवश्यकता के प्रति आश्वस्त नहीं था। उन्होंने एक तुलनात्मक परिप्रेक्ष्य लाया और नोट किया कि इंग्लैंड ने संसद को संबोधित करने के लिए राजा के लिए बाध्यकारी नहीं बनाया। राष्ट्रपति पर ऐसी बाध्यता का होना न तो आवश्यक था और न ही उपयोगी।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 86 In Hindi
Article 77 In Hindi
Article 78 In Hindi
Anuched 79 Hindi Me
Article 80 In Hindi
Article 81 In Hindi
Anuched 82 Hindi Me
Article 83 In Hindi
Article 84 In Hindi
Article 85 In Hindi

Final Words

तो आपको Article 87 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 87 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 87 Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *