|

Article 83 In Hindi | Article 83 Of Indian Constitution In Hindi | अनुच्छेद 83 क्या है

इस पोस्ट मे आपको Article 83 Of Indian Constitution In Hindi मे बताया गया है। अगर आपको Article 83 In Hindi मे जानकारी नहीं है कि अनुच्छेद 83 क्या है, तो इस पोस्ट मे आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

अनुच्छेद हमारे भारतीय संविधान मे दिए गए है, जिसने हर एक प्रावधान को एक अंक दिया गया है, जिसमे Article 83 भी एक है, तो चलिए जानते है इसके बारे में।

Article 83 In Hindi

Anuched 83 – संसद के सदनों की अवधि
Anuched 83(1)
राज्यों की परिषद विघटन के अधीन नहीं होगी, लेकिन संसद द्वारा इस संबंध में किए गए प्रावधानों के अनुसार हर दूसरे वर्ष की समाप्ति पर जितना संभव हो सके सदस्यों के एक तिहाई सदस्य सेवानिवृत्त हो जाएंगे। कानून द्वारा।
Anuched 83(2) लोक सभा, जब तक कि जल्द ही भंग न हो जाए, अपनी पहली बैठक के लिए नियत तारीख से पांच साल तक बनी रहेगी और अब नहीं और पांच साल की उक्त अवधि की समाप्ति सदन के विघटन के रूप में काम करेगी: बशर्ते कि उक्त अवधि, जब आपातकाल की उद्घोषणा चल रही हो, संसद द्वारा कानून द्वारा एक समय के रूप में एक वर्ष से अधिक की अवधि के लिए बढ़ाई जा सकती है और किसी भी मामले में छह महीने की अवधि से आगे नहीं बढ़ाई जा सकती है। .

INDIAN  CONSTITUTION PART 5 ARTICLE

Article 83 Of Indian Constitution In Hindi & English

Article 83 – Duration of Houses of Parliament
Article 83(1)
The council of States shall not be subject to dissolution, but as nearly as possible one third of the members thereof shall retire as soon as may be on the expiration of every second year in accordance with the provisions made in that behalf by Parliament by law.
Article 83(2) The House of the People, unless sooner dissolved, shall continue for five years from the date appointed for its first meeting and no longer and the expiration of the said period of five years shall operate as a dissolution of the House: Provided that the said period may, while a Proclamation of Emergency is in operation, be extended by Parliament by law for a period not exceeding one year as a time and not extending in any case beyond a period of six months after s the Proclamation has ceased to operate.

नोट- इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से ही ली गई है। यानी यह संविधान के शब्द है।.

Anuched 83 Kya Hai

वाद-विवाद संक्षेप – मसौदा समिति के अध्यक्ष ने एक संशोधन पेश किया जिसमें परंतुक में ‘राष्ट्रपति द्वारा’ शब्दों को ‘संसद द्वारा कानून द्वारा’ से बदलने की मांग की गई। उन्होंने तर्क दिया कि आपातकाल के दौरान यह असाधारण शक्ति संसद के पास होनी चाहिए न कि राष्ट्रपति के पास।

अन्य सदस्यों ने इस संशोधन का विरोध किया क्योंकि उनका मानना था कि राष्ट्रपति, जो राष्ट्र का प्रतिनिधि है, को संसद की अवधि बढ़ाने की शक्ति दी जानी चाहिए। एक सदस्य ने मसौदा लेख का पूरी तरह से विरोध करते हुए दावा किया कि आपातकाल की प्रकृति की परवाह किए बिना, लोगों को हर पांच साल में नए प्रतिनिधियों को चुनने का अधिकार होना चाहिए।

एक अन्य सदस्य ने एक संशोधन पेश किया जिसमें लोक सभा में चुनाव की 5 साल की समरूपता बनाए रखने की मांग की गई: इस संशोधन के माध्यम से प्रस्तावक ने प्रस्ताव दिया कि आपातकाल के बाद निर्वाचित लोक सभा का कार्यकाल केवल शेष अवधि के लिए होना चाहिए ‘जिसके लिए यह निर्वाचित होता यदि विघटन सामान्य प्रक्रिया में होता’।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 76 In Hindi
Article 77 In Hindi
Article 78 In Hindi
Anuched 79 Hindi Me
Article 80 In Hindi
Article 81 In Hindi
Anuched 82 Hindi Me
Article 73 In Hindi
Article 74 In Hindi
Article 75 In Hindi

Final Words

तो आपको Article 83 Of Indian Constitution In Hindi की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। इसमे मैने Article 83 In Hindi & English दोनो भाषाओं मे बताया है यानी कि Anuched 83 Kya Hai? अगर इससे संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है, बाकी पोस्ट को शेयर जरूर करें।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *